Dosti

Dil dukha hai
Par tujhe rulana nahi chahta
Gussa bahut hai
Par jatana nahi chahta
Aankhon mein nami hai
Par aanshun bahana nahi chahata
Badi mushkil se mili hai ye dosti
Ise yunhi gawana nahi chahata

दिल दुखा है,
पर तुझे रुलाना नही चाहता |
गुस्सा बहुत है ,
पर जताना नही चाहता |
आँखों में नमी है,
पर आंशु बहाना नही चाहता |
बड़ी मुश्किल से मिली है ये दोस्ती ,
इसे यूँही गवाना नही चाहता |
Date Written : April’14

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *