jhuk jhuk kar chalti budhiya
pratidin waqt par carton ke anmol tukre jugaadti budhiya
chinti si karmath, gilahari si sarpat hai budhiya
kuch pyaar se, aur baaki sab thoothkar kar  bulate use budhiya
par unhe kya pata, budhiya unsabhi se kitni hai badhiya
 
budhiya sab se nyaari hai kyonki usne himmat nahi hari hai
kuch kehte  bechari hai, kuch kehte shayd kismat ki mari hai
kuch yeh tak  kehte ki budhiya is desh ki bimaari hai
par bhul gaye hain log ki budhiya samaaj ki jimmedaari hai
 
kehte hai budhiya ko kuch aata nahi
lekin budhiya ke jeevan se jyada koi lecture sikhaata nahi
sab ko dikhta hai budhiya ka agyaan
par mujhko prerna de gayii budhiya ki mehnat aur dhyaan
 
budhiya  kayi dashak ji chuki
budhiya apne fate kapde anekon baar sii chuki
itne  baras budhiya ke sangharsh par meri nazar na tiki
par isbaar to budhiya ki saadgi dil ko chu chuki
 
 
झुक झुक कर चलती बुढिया  |
प्रतिदिन वक़्त पर कार्टून के अनमोल टुकड़े   जुगाड़ती  बुढिया  ||
चिंटी-सी कर्मठ, गिलहरी-सी सरपट है बुढिया |
कुछ प्यार से, और बाकी सब धूत्कार कर  बुलाते उसे बुढिया ,
पर उन्हे क्या पता, बुढिया  उनसभी से कितनी है बढ़िया ||
 
 
बुढिया  सब से न्यारी है क्योंकि उसने हिम्मत नही हारी  है |
कुछ कहते  बेचारी है, कुछ कहते शायद  किस्मत की मारी है ||
कुछ यह तक  कहते की बुढिया  इस देश की बीमारी है |
पर भूल गये हैं लोग की बुढिया  समाज की ज़िम्मेदारी   है  ||
 
 
कहते है बुढिया  को कुछ आता नही |
पर बुढिया  के जीवन से ज़्यादा कोई लेक्चर सिखाता नही ||
सब को दिखता है बुढिया  का  अज्ञान |
पर मुझको प्रेरणा दे गयी बुढिया  की मेहनत और  उसका ध्यान ||
 
बुढिया  कई दशक  जी चुकी |
बुढिया  अपने फटे कपड़े अनेकों बार सी  चुकी ||
इतने  बरस बुढिया  के संघर्ष पर मेरी नज़र ना टिकी |
पर इसबार तो बुढिया  की सादगी दिल को छू चुकी ||
 
ps:Not attaching a picture so that you can imagine you own image of the many “budhiya” around us.